User: Shayariworld

Added 5 months ago

*तो क्या हुआ जो आप नहीं मिलते हमसे.,*
*मिला तो रब भी नहीं हमसे,*
*पर इबादत कहां रुकी हमसे..*

HeartLike SMS #63 - SMS Length: 220
|
Added 5 months ago

*"सर झुकाने" की "खूबसूरती" भी क्या "कमाल" की रही*.

HeartLike SMS #61 - SMS Length: 116
|
Added 5 months ago

मिलती नहीं है मंजिल साथी हो गर अकेला
दोनों का दिल जहाँ मे चाहे लगा लो मेला
दिल मिल गये तो फिर भी जंगल भी एक घर है
साथी है खूब सूरत ये मौशम को भी खबर है ।

Added 5 months ago

*मेरे जिस्म पर मेरी रूह का काबू हो तुम *

*कुछ नहीं बस, चलती हुई नब्ज़ का जादू हो तुम *

HeartLike SMS #107 - SMS Length: 211
|
Added 6 months ago

उसे लगता था कि चालाकियां
उसकी हमें समझ नहीं आतीं,

हम बड़ी खामोशी से देखते थे
उसे अपनी नजरों से गिरते हुए।

HeartLike SMS #35 - SMS Length: 277
|
Added 6 months ago

कभी यूं भी तो हो ऐ ज़िंदगी,
मैं रूठूं और तू मनाए.....!

ख़्वाहिशों की पगडंडियों
पर मैं दौड़ूं और तू पीछे पीछे आए.....!!

HeartLike SMS #114 - SMS Length: 287
|
« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »

Jump to Page

advertisements